इस शहर में जलती हुई माचिस पानी में फेकना कानून का उल्लंघन है, जाने क्यों ?

दुनिया में ऐसे बहुत से अजीबोगरीब शहर होंगे जो पहाड़ियों पर ,झील के किनारे ,नदी के किनारे, पानी के ऊपर बेस होंगे। लेकिन क्या आपने कभी किसी ऐसे शहर के बारे में सुना है जो सिर्फ तेल के ऊपर बसा हो। जी हां हम एक शहर के बारे में बताने जा रहे हैं जो तेल के ऊपर बसा हुआ है। इस शहर का नाम नेफ्ट डासलैरी है जो कि अजरबैजान की राजधानी बैकू से करीब 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। अब जो शहर तेल के ऊपर बसा हो उस शहर की सुरक्षा को लेकर बेहद तगड़े इंतजामात किए जाते हैं नहीं तो छोटी सी भूल में पूरा शहर जलकर राख हो जाये। आखिर इस शहर की खासियत क्या है जो दिल के ऊपर बसा हुआ है।

 

यह शहर बहुत बड़ा नहीं है महज 3000 लोग ही रहते हैं लेकिन देखने में यह बहुत ही खूबसूरत शहर है। ऐसा नहीं है कि तेल के ऊपर बसे होने के कारण यहां के लोगों के पास सुविधाओं का अभाव है। यहां के लोग सभी तरह की सुविधाओं का उपयोग करते हैं। इस शहर को लैंड ऑफ़ फायर भी कहा जाता है। इस जगह से सन 1870 से तेल निकालने का काम शुरू हुआ था। तब इस एरिया में रूस का कब्जा हुआ करता था। प्रथम विश्व युद्ध के समय अजरबैजान का अहम् रोल था क्योंकि यंहा से भारी मात्रा में तेल की खपत होती थी।

 

भारी मात्रा में तेल होने की वजह से यहां पर कानून भी सख्त है। यहां जलती हुई चीज़ों को पानी में फेंकना सख्त मना है। यहां तक कि जल्दी हुई माचिस भी पानी में नहीं फेंक सकते, ऐसा इसलिए कि कहीं माचिस की एक छोटी सी तीली से आग न लग जाए। ऐसा करने वालों को सख्त से सख्त सजा मिलती है। क्योंकि यह कानून के उल्लंघन के अंतर्गत आता है। तेल के ऊपर बसा यह शहर काफी समय से तेल बेच रहा है और तेल का निर्यात भी करता है। यहां काफी कम कीमत में तेल मिलता है।

Facebook Comments

Related posts

Leave a Comment