चूहें बेच के बना 100 करोड़ का मालिक | हिन्दीबाज

चूहें बेच के बना 100 करोड़ का मालिक

 

हर कंपनी को एक अच्छे कर्मचारी  की जरूरत होती है और ज्यादातर लोग अच्छे कर्मचारी के तौर पर ही अपने जीवन की इतिश्री करते हैं, लेकिन एक शख्स का मानना है कि अपने व्यवसाय को स्थापित करना न सिर्फ हर एक का अधिकार है बल्कि ये व्यवसायिक जीवन में उनकी पूर्णता का प्रमाण पत्र भी है।

 

अपने स्कूल जीवन से ही वो व्यावसायिक दृष्टिकोण के साथ जीवन के अलग-अलग पहलुओं को समझते रहे। उनके जीवन की एक घटना का जिक्र करते हुए वो कहते हैं कि बहुत छोटी उम्र में वो सफेद चूहों को हाट बाजारों में बेचने जाया करते थे। इस घटना का जिक्र इसीलिए जरूरी है क्‍योंकि व्यवसायिक सोच छोटी या बड़ी नहीं होती है। बाजार में जरूरत को पैदा कर अपने माल को बेचना एक अच्छे व्यवसायी की पहचान है। आज उनकी कंपनी 100 करोड़ के आंकड़े तक पहुंच चुकी है।

 

स्कूल और कॉलेज की एजुकेशन को वो कभी गंभीरता से नहीं ले पाए। उनका मानना है कि किताबी शिक्षा जरूरी तो है, लेकिन यहां व्यवहारिक ज्ञान की बहुत कमी है। आपको दोनों शिक्षाओं के बीच एक सामंजस्य बनाने की जरूरत है। जीवन से बड़ी पाठशाला कोई दूसरी नहीं होती और यहां वहीं पढ़ सकता है, जो सीखने का जुनून रखता हो। सीखने की प्रक्रिया में सफलता और असफलता के कोई मायने नहीं होते। हर असफलता दरअसल छद्म रूप में एक सफलता ही होती है क्‍योंकि इससे आप आगे की राह को बेहतर तरीके से समझ पाते हैं।

अगले पेज पर जाएँ -

 

यकीनन, के. पी. सिंह एक युवा व्यवसायी हैं और बहुत छोटी उम्र में उन्होंने अपने व्यवसाय को इंदौर शहर से निकालकर मायानगरी मुंबई में स्थापित कर दिया है। आज देश के लगभग हर राज्य में उनकी मेडिकल चेन आरोग्य से जुड़ने के लिए व्यवसायी बेकरार हैं। आमतौर पर IIT और IIM से निकलने वाले छात्रों को सफलता के योग्य माना जाता है। फॉलोअप के इस अंक में भी जिन स्टार्टअप की कहानियों को रखा गया है उनमें ज्यादातर लोग ऐसे ही बड़े संस्थानों के छात्र रहे हैं। इन सबसे अलग के. पी. सिंह ने कॉलेज डिग्री से ज्यादा व्यवसाय की व्यवहारिक शिक्षा पर ध्यान दिया और ये शिक्षा उन्हें किसी संस्थान में नहीं मिली बल्कि अपने छोटे छोटे कामों को आगे बढ़ाने से ही हासिल हुई।

 

ऐसा नहीं है कि उन्हें अपने पहले ही प्रयास में कामयाबी मिल गई। के. पी. सिंह के पिता ट्रांसपोर्टर है और अपने पिता के काम को ही सबसे पहले उन्होंने बड़ा रूप देने की कोशिश की। ट्रक चालकों को रास्ते में आने वाली परेशानियों से निपटने लिए उन्होंने अपनी एक कंपनी बनाई जिसके दफ्तर देश के अलग-अलग हिस्सों में डालने की कोशिश की गई। संसाधनों और धन की कमी वजह से ये प्रोजेक्ट बहुत लंबा नहीं चल पाया और इसे उन्हें जल्द ही बंद करना पड़ा।

 

ये काम उन्होंने एक ऐसे समय पर शुरू किया जब वो कॉलेज में पढ़ाई कर ही रहे थे। उस वक्त वेबसाइट्स का प्रचलन नहीं था और ऐप के बारे में तो किसी ने सोचा तक नहीं था। निराश होने के बजाए उन्होंने इस अनुभव से ये सबक लिया कि काम ऐसा किया जाए, जिसमें पकड़ आपके हाथ में हो और आपको ज्यादा लोगों पर शुरुआती दौर में आश्रित न रहना पड़ा। इसके बाद सेनेटरी प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनियों के लिए उन्होंने मिट्टी सप्लाय करने के काम की शुरूआत की। इस काम में पैसा हाथों हाथ मिलता था, लेकिन खनन और ट्रांसपोर्टेशन के पॉलिसी के चलते इस काम को भी लंबे समय तक चला पाना आसान नहीं था। इस बीच के. पी. सिंह लगातार नए नए प्रयोग करते रहे।

दरअसल केपी का मानना है कि एक व्यवसायी के लिए असली पूंजी उसका दिमाग ही होती है। जब तक आपके पास आइडिया है तब तक संभावनाओं का कोई अंत नहीं है। मूल रूप से बिजनेस का जुनून आपके भीतर होना जरूरी है। अपने इसी जुनून के साथ उन्होंने सरकारी ठेकों का रुख किया। सरकारी ठेकों में भी जमकर मारामारी थी। पहले से जमे जमाए कामों में जबरदस्त प्रतिस्पर्धा थी। उन्हें अपने पहले के अनुभवों से ये बात समझ में आ गई थी कि भेड़चाल में चलने के बजाए कोई नया काम करना होगा। रचनात्मकता और नवीनता ही आपको भीड़ में अलग खड़ा कर सकती है।

इस तरह उन्होंने इस पर विचार करना शुरू किया कि ऐसा क्या किया जाए जो अब तक किसी व्यवसायी ने न किया हो। इंदौर जैसे शहर किसी व्यवसाय को प्रायोगिक तौर पर शुरू करने के लिए सबसे बढ़िया माने जाते हैं। के. पी. सिंह इसे अपना सौभाग्य मानते हैं कि वो इसी शहर में व्यवसाय के दांव पेंच सीख रहे थे। उनका ध्यान शहर में लगे होर्डिंग्स की भरमार पर गया, लेकिन इस क्षेत्र में पहले से ही कई बड़ी खिलाड़ी मैदान में थे।

 

इस बीच उनका ध्यान उन विज्ञापनों पर भी गया जो कई कमर्शियल बिल्डिंग्स पर लगे रहते थे। दुकानों और संस्थानों के बाहर लगे इन विज्ञापनों के लिए किसी तरह के नियम या सरकारी हस्तक्षेप नहीं थे। होर्डिंग्स पर मिलने वाले धन का एक हिस्सा नगर निगम को मिलता था, लेकिन व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर लगने वाले विज्ञापनों पर किसी का ध्यान नहीं था। उन्होंने लंबी रिसर्च के बाद इन विज्ञापनों से होने वाली आय को लेकर अपना प्रेजेंटेशन सरकारी अधिकारियों के सामने रखा। उनका ये प्रस्ताव सभी ने हाथों-हाथ लिया, लेकिन अब भी चुनौती थी टेंडर के जरिए इस काम को हासिल करने की। अपनी रिसर्च के वजह से के. पी. सिंह मार्केट के कई बड़े खिलाड़ियों से इस मामले में आगे थे और उन्हें पूरा भरोसा था कि इस काम को जिस तरह से वो कर सकते हैं कोई और नहीं कर पाएगा। आखिरकार उनका टेंडर पास हो गया और यहां से उन्होंने शौर्यादित्य एडवरटाइजिंग की शुरुआत की।

अगले पेज पर जाएँ -

 

और फिर देखते ही देखते उनकी कंपनी शहर की सबसे बड़ी विज्ञापन कंपनी के तौर पर सामने आ गई। अवैध तरीके से लगे होर्डिंग्स के बजाय उन्होंने व्यवस्थित होर्डिंग प्रणाली पर भी काम किया। बीआरटीएस कॉरीडोर जैसी महत्वाकांक्षी योजना के साथ उनकी कंपनी को जुड़ने का मौका मिला। इस पूरी प्रक्रिया में उन्होंने इन कामों के दौरान पेश आने वाली प्रतियोगिता को भी समझा और साथ ही साथ अपनी फाइनेंस की समझ को भी विकसित किया। उनका ये कारोबार इतना कामयाब हुआ कि बाजार में सालों से काम कर रहे व्यवसायियों ने भी उनकी प्रतिभा का लोहा मान लिया।

 

दरअसल, दवाओं के बाजार में जबरदस्त कमीशन को समझने के बाद उन्हें समझ में आया कि आम आदमी पर दवाओं के जबरदस्त दामों का बोझ ज्यादा फायदे के लालच में डाला जाता है। उन्होंने अपने फायदे को बहुत कम करते हुए 25 से 75 फीसदी के डिसकाउंट पर इन दवाओं का विक्रय शुरू किया। आज पूरे देश में उनकी इस पहल की मांग की जा रही है। इंदौर और मध्य प्रदेश के कई शहरों में उन्हें देखते ही देखते कामयाबी मिल गई।

 

वे मानते हैं कि उनके व्यवसाय से भी वो पैसा कमाते हैं, लेकिन जब इससे लोगों की सच्ची जरूरत और उनका हित भी जुड़ जाता है, तो इसकी तरक्की में कभी संदेह नहीं रहता। अपने इसी प्रयोग के चलते उन्होंने आगे भी व्यवसाय के साथ साथ आम लोगों के सामने पेश आने वाली चुनौतियों का समाधान करने का मन बनाया है। वो कई और आइडियाज पर काम कर रहे हैं और उनका मानना है कि इन पर तभी बात की जानी चाहिए जब ये अमलीजामा पहनाए जाने की स्थिति में आ जाएं। हां ये जरूर है कि यदि आप सचमुच कुछ करना चाहते हैं तो संभावनाओं की कोई सीमा नहीं है।

युवा उद्यमियों को सलाह देते हुए वे कहते हैं कि खुद को हमेशा सकारात्मक बनाए रखना बहुत जरूरी है। सकारात्मक चिंतन के लिए अच्छी पुस्तकें और अच्छे लोग आपकी सबसे बड़ी पूंजी हैं। यदि आप बड़ा काम करना चाहते हैं और नकारात्मक लोगों से घिरे हुए हैं तो आपकी कामयाबी में हमेशा संदेह बना रहेगा। यदि आप अपने इर्द गिर्द आगे बढ़ने की चाहत रखने वाले लोगों को रखते हैं, तो वो अपनी तरक्की के साथ साथ आपकी तरक्की में भी अहम योगदान देते हैं।

 

यदि आपने थोड़ी बहुत कामयाबी हासिल कर भी ली है तो खुद को सीमित मत करिए। उसी तरह आगे बढ़ने का जज्बा बरकरार रखिए जैसा आपने अपने किसी भी व्यवसाय की शुरूआत में रखा था। जिस वक्त आप खुद को कुछ मान लेते हैं वो आपके अंत की शुरूआत होता है।

के. पी. सिंह कहते हैं मैं खुद को छोटे या बड़े व्यवसायी के तराजू में नहीं रखता। नए विचारों पर काम करते रहना और हमेशा आंखे खोलकर नई संभावनाओं को तलाशना मेरा शौक है और आप इसे मेरी कहानी में सफलता का मूल मंत्र भी कह सकते हैं।

Loading...
loading...