इन 10 बातों से जैसे कैसे टैक्स बचाया जा सकता है

आयकर रिटर्न भरना सरकारी कठिन कामों में से एक है। पूरे देश में इनकम टैक्स सिर्फ 3% लोग ही चुकाते हैं। इसमें भी ज्यादातर लोग आखिरी वक्त में टैक्स भरते हैं। वित्तीय वर्ष 2016 -17 में सालाना ढाई लाख रुपए तक की इनकम को कर मुक्त किया गया है। यदि आप सालाना ढाई लाख रुपए तक कमाते हैं तो आपको कोई कर नहीं देना है। ढाई लाख से 5 लाख रुपए तक 10% चुकाना होगा। यदि आपकी आय कम से कम 10 लाख रुपए तक है। तो सरकार के विभिन्न प्रावधानों के माध्यम से आप अपना टैक्स बचा सकते हैं। विभिन्न सरकारी प्रावधानों के अनुसार आप निवेश करके टैक्स में छूट प्राप्त कर सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे आपका टैक्स बचा सकते हैं-

 

1 – धारा 80 सी के तहत पब्लिक प्रोविडेंट फंड , टैक्स सेविंग इक्विटी, म्यूच्यूअल फंड्स और टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपाजिट के जरिए टैक्स बचाया जा सकता है। इसके अलावा आप इस धारा के तहत होम लोन के मूल धन पर किये गए भुकतान को टैक्स छूट के दायरे में ला सकते है।

2 – यदि आपने पहले ही होम लोन ले रखा है। तो ब्याज के भुकतान पर 2 लाख रुपए तक की कटौती का दावा कर सकते हैं। इसके अलावा कंपनी यदि आपको हाउस रेंट अलाउंस देती है तो आप कटौती का दावा कर सकते हैं। इसके अलावा यदि आप रोजगार के लिए किसी दूसरे शहर में रहते हैं। तो हाउस रेंट अलाउंस और होम लोन के तहत कटौती का दावा कर सकते हैं।

3 – धारा 80CCD के तहत नेशनल पेंशन स्कीम पर किए गए निवेश पर ₹50000 तक की अतिरिक्त छूट का दावा कर सकते हैं। वहीं 80CCD(2) के तहत बेसिक सैलरी के 10% तक नियोक्ता द्वारा नेशनल पेंशन स्कीम में योगदान को टैक्स में छूट मिल सकती है।

4 – इसके अलावा मेडिकल इंश्योरेंस के प्रीमियम भुगतान पर प्रतिवर्ष ₹25000 की कटौती का दावा किया जा सकता है। वही पेरेंट्स के लिए मेडिकल इंश्योरेंस प्रीमियम भुगतान पर अतिरिक्त 30 हजार रुपए की छूट का दावा किया जा सकता है।

5 – राजीव गांधी इक्विटी सेविंग स्कीम के तहत निवेश करने पर ₹50 हजार रुपये निवेश कर ₹25 हजार तक की छूट मिल सकती है। इस योजना में 12 लाख रुपए से कम आय वाले व्यक्ति ही निवेश कर सकते हैं।

6 – यदि आपकी तनख्वाह में भत्ते शामिल है तो कुछ भक्तों पर आप छूट का दावा कर सकते हैं। मेडिकल अलाउंस पर ₹15000 तक की छूट , ₹2200 तक के फ़ूड कूपंस को भी छूट मिली हुई है। इसके अलावा कुछ भत्ते जैसे पत्रिकाओं और वर्दी की वास्तविक कीमत पर भी छूट का दावा किया जा सकता है।

7 – कंपनी से मिलाने वाले 5000 रुपये तक के उपहार कर नहीं लगता है।

8 – प्रतिमाह 1600 रुपये के यातायात भत्ते का दावा कर सकते है। साल भर में इस तरह 19200 रुपये तक टैक्स बचाया जा सकता है।

9 – अपने बच्चों की शिक्षा पर प्रतिमाह 100 रुपए तक कटौती का दावा कर सकते हैं इसके साथ ही बच्चे की हॉस्टल फीस के लिए प्रतिमाह ₹300 तक की छूट का दावा किया जा सकता है।

10 – यदि आपकी इनकम 5 लाख रूपय से कम है तो आप स्कूल टैक्स पर ₹5000 तक की छूट का दावा कर सकते हैं।

Facebook Comments

Related posts

Leave a Comment